परिचय

जवाहर बाल भवन, मध्यप्रदेश शासन के महिला सशक्तिकरण संचालनालय का संस्थान है, जहां विभिन्न गतीविधियों के माध्यम से बच्चों के शारीरिक, मानसिक एवं सृजनात्मक क्षमताओं के विकास पर विशेष ध्यान दिया जाता है। जिससे बच्चों में एकाग्रता, आत्म विश्वाश , सम्प्रेषण एवं सृजनात्मकता बढ़ती है। इन दिनों शिक्षा के बढ़ते दबाव के कारण बच्चों का संपूर्ण विकास नहीं हो पा रहा है। बाल भवन सभी वर्ग के बच्चों का सर्वागीण विकास कर राष्ट्र के लिये बहुपयोगी मानव संसाधन तैयार कर रहा है, जो भविष्य में देश की प्रगति में महत्वपूर्ण योगदान देंगे। जवाहर बाल भवन बच्चों की कलात्मक रूचियों का न सिर्फ विकाश करता है, बल्कि नैसर्गिक प्रतिभा के धनी बच्चों को राष्ट्रीय एवं अन्तराष्ट्रीय स्तर पर पहचान व सम्मान दिलाने एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में भागीदारी हेतु सषक्त माध्यम का कार्य भी करता है। जवाहर बाल भवन की स्थापना मध्यप्रदेश शासन द्वारा 03 जुलाई 1987 को की गई।

पात्रता:- जवाहर बाल भवन में सदस्यता हेतु 05 से 16 वर्ष आयु के बच्चे प्रवेश ले सकते है।

उद्देश्य :-


1: बच्चों को उनकी आयु, अभिवृत्तियां तथा क्षमताओं के अनुरूप उन्हें परस्पर मेलजोल बढ़ाने, प्रयोग करने, सृजन तथा प्रस्तुतिकरण के लिये विभिन्न गतिविधियों , अवसर व समान मंच प्रदान करना।
2. बच्चों के लिये तनावरहित, बाधामुक्त व नवीकरण की संभावनाओं से युक्त वातावरण उपलब्ध कराता है।
3. बच्चों को गतिविधियों का पाठ्यक्रम रहित तथा परीक्षा से मुक्त प्रशिक्षण। 4. बच्चे की अभिरूचि के अनुसार नैसर्गिक क्षमता का विकास। 5. बच्चों की मानसिक एवं रचनात्मक क्षमता का प्रस्फुटन।

कार्यक्रम

जवाहर बाल भवन, मध्यप्रदेश शासन के महिला सशक्तिकरण संचालनालय का संस्थान है, जहां विभिन्न गतीविधियों के माध्यम से बच्चों के शारीरिक, मानसिक एवं सृजनात्मक क्षमताओं के विकास पर विशेष ध्यान दिया जाता है। जिससे बच्चों में एकाग्रता, आत्म विश्वाश , सम्प्रेषण एवं सृजनात्मकता बढ़ती है। इन दिनों शिक्षा के बढ़ते दबाव के कारण बच्चों का संपूर्ण विकास नहीं हो पा रहा है। बाल भवन सभी वर्ग के बच्चों का सर्वागीण विकास कर राष्ट्र के लिये बहुपयोगी मानव संसाधन तैयार कर रहा है, जो भविष्य में देश की प्रगति में महत्वपूर्ण योगदान देंगे। जवाहर बाल भवन बच्चों की कलात्मक रूचियों का न सिर्फ विकाश करता है, बल्कि नैसर्गिक प्रतिभा के धनी बच्चों को राष्ट्रीय एवं अन्तराष्ट्रीय स्तर पर पहचान व सम्मान दिलाने एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में भागीदारी हेतु सषक्त माध्यम का कार्य भी करता है। जवाहर बाल भवन की स्थापना मध्यप्रदेश शासन द्वारा 03 जुलाई 1987 को की गई।

'जवाहर बाल भवन में संचालीत नियमीत गतिविधियों के अतिरिक्त समय-समय पर विषय विशेषज्ञों की कार्यशालाऐं आयोजित की जाती है। इसके अतिरिक्त गणतंत्र दिवस, विज्ञान दिवस, पर्यावरण दिवस, स्थापना दिवस, स्वतंत्रता दिवस और बाल दिवस के अवसर पर विविध कार्यक्रम एवं प्रतियोगिताएँ आयोजित की जाती है । बच्चो के लिये आयोजित सभी कार्यक्रमों एवं प्रतियोगिताओं के आयोजन में उनकी अभिरूचि के विकस, उनके ज्ञान में बढ़ोत्तरी तथा ग्राहयता में अभिवृद्धि का भी ध्यान रखा जाता है। प्रदेशे के समस्त बाल भवनों के बच्चो , जो राष्ट्रीय बालश्री अवार्ड चयन सिविरों में चयनित होते है उन्हे मध्यप्रदेश शासन द्वारा क्रमषः क्षेत्रीय स्तर के लिये चयनित बच्चों को राषि रूपये 3,000/-, राष्ट्रीय स्तर के लिये चयनित को रूपये 5,000/- एवं अवार्डी बच्चे को राषि 10,000/- रूपये नगद एवं राज्यस्तरीय बाल प्रतिभा सम्मान से सम्मानित किया जाता है। वर्ष 2014 में होने वाले बालश्री अवार्ड के चयन में बाल भवन के नियमित पंजीकृत बच्चे ही भाग ले सकेंगे।

संपर्क

जवाहर बाल भवन, तुलसी नगर, भोपाल

1. श्री उमाशंकर नगायच
(संचालक)

2. श्री सजन सिंह कठैत
(सहायक संचालक)

ईमेल: jawaharbalbhavanbpl@gmail.com, balbhavan3@gmail.com

संपर्क क्र.: 0755-2558059

जवाहर बाल भवन में गतिविधियों के संचालन का समय :- प्रातः 10.30 से सायं 5.30 बजे अवकाश: समस्त शासकीय अवकाश ।

पूछताछ/सुझाव